National

  • 04-Sep-2020
  • 202
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भारतीय पुलिस सेवा-आईपीएस के प्रशिक्षुओं से कहा है कि वे अप्रत्याशित घटनाओं से सतर्क रहें और उनसे निपटने के लिए हमेशा तैयार रहें। उन्होंने युवाओं को गलत रास्ते पर जाने से रोकने की आवश्यकता पर भी बल दिया। श्री मोदी ने आशा व्यक्त की कि महिला पुलिस अधिकारी इस दिशा में बेहतर काम कर सकती हैं। 


प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से हैदराबाद में भारतीय पुलिस सेवा के प्रशिक्षुओं के दीक्षांत परेड को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रशिक्षुओं को अपनी वर्दी पर गर्व होना चाहिए और कोविड-19 महामारी के दौरान पुलिस के अच्छे काम लोगों के बीच याद किए जायेंगे।  
 आईपीएस प्रशिक्षुओं ने दो साल का लंबा प्रशिक्षण पूरा किया है। इनमें 28 महिला सहित 131 प्रशिक्षु शामिल हैं। तमिलनाडु काडर की किरण श्रुति ने पासिंग परेड का नेतृत्व किया। अकादमी के इतिहास में चौथी बार महिला अधिकारी ने इस परेड का नेतृत्व किया है। लगभग 58 प्रतिशत आईपीएस प्रशिक्षु इंजीनियरिंग पृष्ठभूमि से हैं, जबकि दस प्रतिशत विज्ञान और 23 प्रतिशत कला तथा वाणिज्य संकाय के छात्र रहे हैं। राष्ट्रीय पुलिस अकादमी के निदेशक के अनुसार सबसे अधिक 15 प्रशिक्षुओं को उत्तर प्रदेश जबकि 11 को तेलंगाना काडर आवंटित किया गया है।