Madhya Pradesh

  • 04-Jan-2021
  • 188

भीमबेटका गुफ़ाएँ (भीमबेटका रॉक शेल्टर या भीमबैठका) भारत के मध्य-प्रदेश राज्य के रायसेन जिले में एक पुरापाषाणिक पुरातात्विक स्थल है। जो मध्य-प्रदेश राज्य की राजधानी भोपाल के दक्षिण-पूर्व में लगभग 46 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

Madhya Pradesh भीमबेटका  गुफाये – Bhimbetka Tourism

भीमबेटका यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थलों में से एक है और इस स्थल को सन 2003 में वर्ल्ड हेरिटेज साइट घोषित किया जा चुका है। इस प्रकार की सात पहाड़ियाँ में से एक भीमबेटका की पहाड़ी पर 750  से अधिक रॉक शेल्टर (चट्टानों की गुफ़ाएँ) पाए गए है जोकि लगभग 10  किलोमीटर के क्षेत्र में फैले हुए है। भीमबेटका भारतीय उपमहाद्वीप में मानव जीवन की उत्पति की शुरुआत के निशानों का वर्णन करती है। इस स्थान पर मौजूद सबसे पुराने चित्रों को आज से लगभग 30,000 साल पुराना माना जाता है। माना जाता है कि इन चित्रों में उपयोग किया गया रंग वनस्पतियों का था। जोकि समय के साथ-साथ धुंधला होता चला गया। इन चित्रों को आंतरिक दीवारो पर गहरा बनाया गया था।

भीमबेटका कहां स्थित है

भीमबेटका की गुफा मध्य प्रदेश भोपाल के दक्षिण-पूर्व में 45 किलोमीटर और मध्य प्रदेश के रायसेन जिले में ओबेदुल्लागंज शहर से 9 किलोमीटर की दूरी पर विंध्य पहाड़ियों के दक्षिणी किनारे पर स्थित है। इन गुफाओं के दक्षिण में सतपुड़ा पहाड़ियों की क्रमिक श्रेणियाँ हैं। यह रातापानी वन्यजीव अभयारण्य के अंदर है, जो विंध्य रेंज की तलहटी में, बलुआ पत्थर की चट्टानों में अंत:स्थापित है। भीमबेटका साइट में सात पहाड़ियाँ शामिल हैं: विनायका, भोंरावली, भीमबेटका, लाखा जुआर (पूर्व और पश्चिम), झोंद्रा और मुनि बाबाकी पहाड़ी।

भीमबेटका का नाम कैसे पड़ा

भीमबेटका (भीमबेटका) नाम भीम, महाकाव्य महाभारत के नायक-देवता भीम से जुड़ा है। भीमबेटका शब्द भीमबैठका से लिया गया है, जिसका अर्थ है “भीम के बैठने की जगह”।

भीमबेटका का इतिहास

भीमबेटका का इतिहास बहुत पुराना है और सबसे पहले एक ब्रिटिश अधिकारी डब्लू किन्काइद ने सन 1888 के दौरान एक विद्वान के पत्र के माध्यम से भीमबेटका स्थान का वर्णन किया था। उन्होंने भोजपुर क्षेत्र के आदिवासियों से मिली जानकारी के आधार पर भीमबेटका नामक इस स्थल को एक बौद्ध स्थल के रूप में स्थान दिया। सबसे पहले इन गुफाओं की खोज करने वाले पहले पुरातात्विक वी.एस.वाकणकर थे। उन्होंने यहा की रॉक संरचनाओ को देखने के बाद एक टीम बनाकर इस क्षेत्र का दौरा किया। उन्हें ऐसा लगा की यह रॉक शेल्टर वैसी ही है, जैसी फ्रांस और स्पेन में देखी गयी थी। उन्होंने सन 1957 के दौरान इस जगह पर विधमान कई प्रागैतिहासिक रॉक आश्रयों की सूचना दी।

भीमबेटका किस लिए प्रसिद्ध है

भीमबेटका की गुफ़ाएँ आदि-मानव द्वारा बनाये गए शैलचित्रों और शैलाश्रयों के लिए प्रसिद्ध है। यहां बनाये गए चित्र भारतीय उपमहाद्वीप में मानव जीवन के सबसे प्राचीनतम चिह्न हैं।

यहाँ पर अन्य पुरातात्विक अवशेष भी मिले हैं जिनमें प्राचीन किले की दीवार, शुंग-गुप्त कालीन अभिलेख, लघुस्तूप, पाषाण काल में निर्मित भवन, शंख के अभिलेख और परमार कालीन मंदिर के अवशेष सम्मिलित हैं।

भीमबेटका की संरचना

भीमबेटका में दुनिया की सबसे पुराने पत्थर की दीवार और फर्श बने होने का प्रमाण मिलता है। यहा की एक चट्टान जिसे चिड़िया रॉक चट्टान के रूप में भी जाना जाता है। इस चट्टान पर हिरन, बाइसन, हाथी और बारहा सिंघा को चित्रित किया गया है। इसके अलावा एक अन्य चट्टान मोर, साप, सूरज और हिरन की एक तस्वीर को चित्रित करती है। शिकार करने के दौरान शिकारियों को तीर, धनुष, ढोल,रस्सी और एक सूअर के साथ भी चित्रित किया गया है। इस तरह की और भी कई चट्टानें और गुफाएँ यहा विधमान है। जिनकी मौजूदगी से हजारो साल पुराने कई रहस्यों का प्रमाण मिलता है।

भीमबेटका सभागार गुफा

कई गुफाओं में से, ऑडिटोरियम गुफा भीमबेटका स्थल की महत्वपूर्ण विशेषताओं में से एक है। जो क्वार्ट्जाइट टावरों से घिरी कई किलोमीटर की दूरी से दिखाई देती हैं, ऑडिटोरियम रॉक भीमबेटका में सबसे बड़ा आश्रय है। रॉबर्ट बेड्नारिक ने प्रागैतिहासिक ऑडिटोरियम गुफा का वर्णन “कैथेड्रल-जैसे” वातावरण के साथ किया है, जिसमें “इसके गोथिक मेहराब और बड़े स्थान” शामिल हैं। इसकी रचना चार कार्डिनल दिशाओं से जुड़ी अपनी चार शाखाओं के साथ एक “समकोण क्रॉस” जैसा दिखती है। मुख्य प्रवेश द्वार पूर्व की ओर है। इस पूर्वी मार्ग के अंत में, गुफा के प्रवेश द्वार पर, एक पास-ऊर्ध्वाधर पैनल के साथ एक बोल्डर है जो विशिष्ट है, जो सभी दिशाओं से दिखाई देता है। पुरातत्व साहित्य में, इस बोल्डर को “चीफ रॉक” या “किंग्स रॉक” के रूप में वर्णित किया गया है। ऑडिटोरियम गुफा के साथ बोल्डर, भीमबेटका की केंद्रीय विशेषता है, इसके 754 नंबरों वाले शेल्टर दोनों तरफ कुछ किलोमीटर में फैले हुए हैं, और लगभग 500 स्थानों पर जहां रॉक पेंटिंग मिल सकती है।

भीमबेटका की चित्रकला और पेंटिंग

भीमबेटका के शैल आश्रयों और गुफाओं में बड़ी संख्या में चित्र हैं। भीमबेटका की गुफा में सबसे पुरानी पेंटिंग 30,000 साल पुरानी पाई जाती हैं। भीमबेटका की गुफाओं में पेंटिंग के लिए उपयोग किए जाने वाले रंग वनस्पति रंग हैं जो समय के माध्यम से समाप्त हो गए हैं क्योंकि चित्र आम तौर पर एक आला के अंदर या आंतरिक दीवारों पर बनाये जाते थे। चित्र और पेंटिंग को सात विभिन्न अवधियों (काल) के अंतर्गत वर्गीकृत किया जा सकता है।

अवधि I – (ऊपरी पेलियोलिथिक):

ये हरे और गहरे लाल रंग में, बिसन, बाघ और गैंडे जैसे जानवरों के विशाल आंकड़ों के रैखिक प्रतिनिधित्व हैं।

अवधि II – (मेसोलिथिक):

आकार में तुलनात्मक रूप से छोटे आकार इस समूह में शरीर पर रैखिक सजावट दिखाते हैं। जानवरों के अलावा मानव आकृति और शिकार के दृश्य हैं, जो उनके द्वारा उपयोग किए गए हथियारों की स्पष्ट तस्वीर देते हैं: कांटेदार भाले, नुकीले डंडे, धनुष और तीर। भीमबेटका की गुफा में कुछ दृश्यों की व्याख्या उनके पशु कुलदेवता के प्रतीक तीन जनजातियों के बीच आदिवासी युद्ध को दर्शाती है। सांप्रदायिक नृत्यों, पक्षियों, संगीत वाद्ययंत्रों, माताओं और बच्चों, गर्भवती महिलाओं, मृत जानवरों को ले जाने वाले लोगों, शराब पीने और दफनाने का चित्रण लयबद्ध तरीके से दिखाई देता है।

अवधि III – (चालकोलिथिक):

मेसोलिथिक के चित्रों के समान, इन चित्रों से पता चलता है कि इस अवधि के दौरान इस क्षेत्र के गुफा निवासी मालवा मैदानों के कृषि समुदायों के संपर्क में थे, और उनके साथ सामान का आदान-प्रदान किया करते थे।

अवधि IV और V – (प्रारंभिक ऐतिहासिक):

इस समूह के आंकड़ों में एक योजनाबद्ध और सजावटी शैली है और इसे मुख्य रूप से लाल, सफेद और पीले रंग में चित्रित किया गया है। भीमबेटका की गुफा में संघ सवारों, धार्मिक प्रतीकों के चित्रण, अंगरखा जैसी पोशाक और विभिन्न अवधियों की लिपियों के अस्तित्व का है। धार्मिक मान्यताओं का प्रतिनिधित्व यक्षों, वृक्ष देवताओं और जादुई आकाश रथों द्वारा किया जाता है।

अवधि VI और VII – (मध्ययुगीन):

ये पेंटिंग ज्यामितीय रैखिक और अधिक योजनाबद्ध हैं, लेकिन वे अपनी कलात्मक शैली में पतन और अशिष्टता दिखाते हैं। गुफा के निवासियों द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले रंगों को काले मैंगनीज ऑक्साइड, लाल हेमटिट और चारकोल के संयोजन से तैयार किया गया था।

एक चट्टान, जिसे लोकप्रिय रूप से “चिड़ियाघर रॉक” (Zoo Rock) के रूप में जाना जाता है, हाथियों, बारासिंघा (दलदल हिरण), बाइसन और हिरण को दर्शाती है। एक अन्य चट्टान पर पेंटिंग एक मोर, एक साँप, एक हिरण और सूरज दिखाती है। एक अन्य चट्टान पर, दो हाथी दाँत के साथ चित्रित किए गए हैं। शिकारियों के साथ धनुष, तीर, तलवार और ढाल लेकर शिकार के दृश्य भी इन पूर्व-ऐतिहासिक चित्रों के समुदाय में अपना स्थान पाते हैं। गुफाओं में से एक में, एक बाइसन को एक शिकारी का पीछा करते हुए दिखाया गया है जबकि उसके दो साथी असहाय रूप से खड़े दिखाई देते हैं, दूसरे में, कुछ घुड़सवार तीरंदाजों के साथ दिखाई देते हैं। एक पेंटिंग में, एक बड़ा जंगली सूअर देखा जाता है।

भीमबेटका में चित्रों का वर्गीकरण

चित्रों को बड़े पैमाने पर दो समूहों में वर्गीकृत किया गया है, एक शिकारी और भोजन इकट्ठा करने वालों के चित्रण के रूप में, जबकि एक अन्य लड़ाकू विमानों के रूप में, घोड़ों और हाथी पर सवार होकर धातु हथियार लेकर।

चित्रों का पहला समूह प्रागैतिहासिक काल का है जबकि दूसरा ऐतिहासिक समय का है। ऐतिहासिक काल के अधिकांश चित्रों में तलवार, भाले, धनुष और तीर चलाने वाले शासकों के बीच लड़ाई को दर्शाया गया है।

एक उजाड़ भीमबेटका की गुफा में, त्रिशूल के समान औजार को पकड़ने और नृत्य करने वाले व्यक्ति का नाम पुरातत्वविद वी एस वाकणकर द्वारा “नटराज” रखा गया है। यह अनुमान लगाया गया है कि कम से कम 100 चट्टानों वाले चित्रों को मिटा दिया गया होगा या वह स्वयं ही नष्ट हो गई होंगीं।

भीमबेटका घूमने का सही समय

भीमबेटका घूमने के लिए सबसे अच्छा और आदर्श समय अक्टूबर से मार्च महीने का होता है। क्योंकि इस समय के दौरान जलवायु अनुकूल होती है और पर्यटक भीमबेटका में सुविधापूर्वक अपनी यात्रा सफल बना सकते है। हालाकि बारिश का मौसम भी यहा घूमने के लिए अच्छा माना जाता है। आप चाहे तो बारिश के मौसम में भी भीमबेटका की सैर पर बिना किसी झिझक के निकल सकते है। लेकिन गर्मी के मौसम में यहा जाने से यदि आप परहेज करेंगे तो वही सही रहेगा। क्योंकि पथरीला स्थान होने की वजह से यहा आपको गर्मी की मार झेलनी पड़ेगी।


विदिशा मध्य प्रदेश का एक बहुत बड़ा पर्यटन स्थल है और यदि आप इतिहास के बारे में जानने की रूचि रखते हैं पुरातत्व से जुड़े हुए हैं, तो आपको इस जगह पर अपने जीवन में एक बार जरुर आना चाहिए।
शिवपुरी मध्य प्रदेश राज्य का एक का प्रसिद्ध शहर है, जिसका अपना अलग ऐतिहासिक महत्व है, क्योंकि यह उस क्षेत्र के आसपास है, जहाँ हिंदू और मुगल शासकों ने समय तक शासन किया है।
अमरकंटक मध्य प्रदेश के प्रमुख तीर्थस्थलों में से एक है जिसकी वजह से इसे “तीर्थराज” (तीर्थों का राजा) के रूप में भी जाना जाता है। बता दें कि अमरकंटक 1065 मीटर की ऊंचाई पर स्थित एक हिल स्टेशन है,
मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के पास भोजपुर गाँव में एक अधूरा हिंदू मंदिर है, जो भगवान् शिव को समर्पित है। इस मंदिर की सबसे खास बात यह है कि इसके गर्भगृह में एक 7.5 फीट ऊंचा लिंग है।
मध्य प्रदेश में नर्मदा नदी के किनारे पर स्थित होशंगाबाद जिला घूमने की एक बहुत अच्छी जगह है जिसमें कई पर्यटन स्थल शामिल है। यह शहर आकर्षण प्राकृतिक दर्शनीय स्थलों और ऐतिहासिक स्मारकों के मिश्रण के साथ आपको एक अलग शांति का अनुभव कराता है।
ओंकारेश्वर मध्य प्रदेश का एक पवित्र और दर्शनीय स्थल है जो नर्मदा और कावेरी नदियों के संगम पर स्थित है। इस शहर का नाम ओमकारा’ से लिया गया है जो भगवान् शिव का एक नाम है।
भीमबेटका गुफ़ाएँ (भीमबेटका रॉक शेल्टर या भीमबैठका) भारत के मध्य-प्रदेश राज्य के रायसेन जिले में एक पुरापाषाणिक पुरातात्विक स्थल है। जो मध्य-प्रदेश राज्य की राजधानी भोपाल के दक्षिण-पूर्व में लगभग 46 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।
मांडू मध्य प्रदेश का के बहुत खास पर्यटन स्थल है जो पूर्वजों ने हासिल वास्तु उत्कृष्टता का प्रतीक है। यह शहर राजकुमार बाज बहादुर और रानी रूपमती के सच्चे प्यार को बताता है। बता दें कि मांडू भारत का सबसे पुराना निर्मित स्मारक भी है जो काफी प्रसिद्ध है।
पचमढ़ी मध्य भारत में मध्य प्रदेश राज्य के होशंगाबाद जिले में स्तिथ, एक खूबसूरत हिल स्टेशन है। श्री पाच पांडव गुफा पंचमढी, जटाशंकर, सतपुड़ा राष्ट्रीय अभयारण्य यहां के मुख्य आकर्षण है यह ब्रिटिश राज के बाद एक छावनी (पचमढ़ी छावनी) का स्थान रहा है। 
ओरछा मध्य प्रदेश में घूमने के लिए अच्छी जगहों में से एक है।  बेतवा नदी के तट पर स्थित यह शहर अपने किले, मंदिरों और महलों के लिए जाना-जाता है। 
भोजताल जिसे बड़ा तालाब या बड़ी झील के नाम से भी जाना जाता है मध्य-प्रदेश राज्य की राजधानी भोपाल के बिल्कुल मध्य में है। इस झील का निर्माण परमार राजा भोज द्वारा 11वी सदी में करवाया गया था। इस तालाब के मध्य में राजा भोज की एक प्रतिमा स्थापित है, जो पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र है इस प्रतिमा में उनके हाथ में एक तलवार सुशोभित हो रही है। बड़ी झील भोपाल की सबसे महत्वपूर्ण झील है जिसे आमतौर पर भोजताल के नाम से जाना जाता है इसी तालाब से भोपाल के निवासियों के लिए 40% पीने के पानी की पूर्ती की जाती है।
अगर आप मध्यप्रदेश में झरनों और संगमरमर की चट्टानों का आनंद लेना चाहते हैं, तो जबलपुर के पास स्थित भेड़ाघाट जाना अच्छा विकल्प है। भेड़ाघाट मध्यप्रदेश के जबलपुर जिले में एक शहर और नगर पंचायत है। जबलपुर शहर से लगभग 20 किमी दूर भेड़ाघाट नर्मदा नदी के किनारे स्थित है। भेड़ाघाट को संगमरमरीय सौंदर्य और शानदार झरनों के लिए ही जाना जाता है, साथ ही धुआंधार जलप्रपात चमकती हुई मार्बल की 100 फीट ऊंची चट्टनों के लिए भी पर्यटकों के बीच प्रसिद्ध है।
ग्वालियर किला भारत में घूमने की सबसे अच्छी जगहों में से एक है। ये किला मध्य भारत की सबसे प्राचीन जगह में से एक है। ग्वालियर फोर्ट मध्यप्रदेश स्टेट के ग्वालियर शहर में एक पहाड़ी पर स्थित है, जिसे “ग्वालियर का किला” के नाम से भी जाना-जाता है। इस किले की ऊंचाई 35 मीटर है। यह किला करीब 10वीं शताब्दी से अस्तित्व में है। लेकिन इस किले में जो किला परिसर है उसके अंदर मिले शिलालेख और स्मारक इस बात का संकेत देते हैं कि ऐसा भी हो सकता है कि यह किला 6 वीं शताब्दी की शुरुआत में अस्तित्व में रहा हो। इस किले के इतिहास के अनुसार इसे विभिन्न शासकों द्वारा नियंत्रित किया गया है। अगर आप ग्वालियर की सेर करने आये हैं तो आप यहाँ स्थित ग्वालियर किला जरुर घूमे।
महाकालेश्वर मंदिर भारत के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है जो मध्य प्रदेश राज्य में रुद्र सागर झील के किनारे बसे प्राचीन शहर उज्जैन में स्थित है जो हिंदुओं के सबसे पवित्र और उत्कृष्ट तीर्थ स्थानों में से एक है। इस मंदिर में दक्षिण मुखी महाकालेश्वर महादेव भगवान शिव की पूजा की जाती है। महाकाल के यहां प्रतिदिन सुबह के समय भस्म आरती होती है। इस आरती की खासियत यह है कि इसमें मुर्दे की भस्म से महाकाल का श्रृंगार किया जाता है। इस जगह को भगवान शिव का पवित्र निवास स्थान माना जाता है। यहां पर आधुनिक और व्यस्त जीवन शैली होने के बाद भी यह मंदिर यहां आने वाले पर्यटकों को पूरी तरह से मन की शांति प्रदान करता है।

कान्हा नेशनल पार्क मध्यप्रदेश में स्थित यह मध्य भारत का सबसे बड़ा राष्ट्रीय उद्यान है, जो राष्टीय पशु बाघ और ऐसे कई जंगली जानवरों का आवास स्थान के लिए प्रसिद्ध है। कान्हा राष्ट्रीय उद्यान मध्यप्रदेश राज्य के मंडला जिले में स्थित ऐसा कस्बा है जो यहाँ आने वाले पर्यटकों को अपनी प्राक्रतिक सुंदरता से आनंदित कर देता है। कान्हा नेशनल पार्क की स्थापना वर्ष 1955 में हुई थी और तब से यहां पर कई लुप्तप्राय प्रजातियों को संरक्षित किया गया है। 1974 में कान्हा राष्ट्रीय उद्यान को प्रोजेक्ट टाइगर रिजर्व के तहत लिया गया था। वर्तमान में नेशनल पार्क का क्षेत्र 940 वर्ग किलोमीटर में फैला है जिसको दो अभयारण्यों हॉलन और बंजार में विभाजित किया गया है।
बांधवगढ़ नेशनल पार्क मध्य प्रदेश के सबसे खास पर्यटकों स्थलों में से एक है जो पुराने समय में रीवा के महाराजाओं के लिए शिकारगाह था। यह राष्ट्रीय उद्यान बाघ अभयारण्य के रूप पूरी दुनिया में जाना जाता है। 
खजुराहो भारत के मध्य में स्थित मध्यप्रदेश स्टेट का एक बहुत ही खास शहर और पर्यटक स्थल है जो अपने प्राचीन और मध्यकालीन मंदिरों के लिए देश भर में ही नहीं बल्कि दुनिया भर में प्रसिद्ध है। मध्यप्रदेश में कामसूत्र की रहस्यमई भूमि खजुराहो अनादिकाल से दुनिया भर के पर्यटकों को आकर्षित करती रही है। छतरपुर जिले का यह छोटा सा गाँव स्मारकों के अनुकरणीय कामुक समूह के कारण विश्व-प्रसिद्ध है, जिसके कारण इसने यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थलों की सूची में अपना स्थान बनाया है।खजुराहो का प्रसिद्ध मंदिर मूल रूप से मध्य प्रदेश में हिंदू और जैन मंदिरों का एक संग्रह है। ये सभी मंदिर बहुत पुराने और प्राचीन हैं जिन्हें चंदेल वंश के राजाओं द्वारा 950 और 1050 के बीच कहीं बनवाया गया था।